मीडिया समाज का आइना ?

अगर श्री राम के ज़माने में ये मीडिया होती तो ===—
लंका से लौटने पर भगवान राम की प्रेस कोंफ्रंस में
मिडिया द्वारा पूछे गए सवाल
====================================

# आपके टीम के श्री हनुमान को लंका सन्देश देने भेजा था
पर उन्होंने वहाँ आग लगा दी| क्या आपकी टीम में अंदरूनी
तौर पर वैचारिक मतभेद है?# क्या हनुमान के ऊपर अशोक वाटिका उजाड़ने के आरोप में वन विभाग द्वारा मुकदमा नहीं चलाया जाना चाहिए?
…# आपके सहयोगी श्री सुग्रीव पर अपने भाई का राज्य
हड़पने का आरोप है| क्या आपने इसकी जांच करवाई?#. क्या ये सच है की सुग्रीव की राज्य हड़पने की साजिश के
मास्टर माइंड आप है?

# आप चौदह साल तक वनवास में रहे| आपको अपने खर्चे
चलाने के लिए फंड कहाँ से मिले?

# क्या आपने उस फंड का ऑडिट करवाया है?

# आपने सिर्फ रावण पर हमला क्यों किया, जबकि राक्षस
और भी थे? क्या ये लंका की डेमोक्रेसी को अस्थिर करने की साजिश थी?

# क्या ये सच नहीं है की रावण को परेशान करने के मकसद से
आपने उनके परिवार के निर्दोष लोगो जैसे कुम्भकरण और
मेघनाद पर हमला किया?

# क्या आपकी टीम के हनुमान द्वारा संजीवनी बूटी की
जगह पूरा पहाड उखाड़ लेना सरकारी जमीन के साथ छेड़छाड़ नहीं?

# क्या ये सच नहीं कि आपने हमले से पहले समुद्र पर पुल
बनाने का ठेका अपने करीबी नल और नील को नहीं दिया?

# आपने पुल बनाने के लिए छोटी छोटी गिलहरियों
से काम करवाया| क्या इसके लिए आप पर बाल श्रम
कानून के तहत मुकदमा नहीं चलाया जाना चाहिए?

# आपने बिना किसी पद पर रहते हुए युद्ध के समय इन्द्र से
सहायता प्राप्त की और उनका रथ लेकर रावण पर हमला किया|
क्या आप इन्द्र की टीम ए है?

# इस सहायता के बदले में क्या आपने इन्द्र को ये वादा नहीं किया
की अयोध्या का राजा बनने के बाद आप उन्हें अयोध्या के आस
पास की जमीन दे देंगे?

# आप युद्ध में अयोध्या से रथ न मंगवा कर इन्द्र से रथ लिया
क्या ये इन्द्र कि कंपनी को लाभ पहुंचाने के उद्देश्य से किया गया?

# क्या आपने जामवंत को सहायता के बदले राष्ट्रपति बनाने का वादा नहीं किया?

Image#  और आखिरी सवाल, की आपके रहते भरत को राजा बनाया गया| क्या आपकी नेतृत्व क्षमता पर दशरथ जी को संदेह था?.
                                                                                                                     अज्ञात!
इस पोस्ट  पे मेरा किसी भी प्रकार का कोई कॉपीराइट नहीं है, , साथ ही ये भी बता दू की मेरा किसी की भी भावना पे चोट पहुचने का कोई मंशा नहीं है केवल एक जोक के तौर पर ही ले  धन्यवाद्
विशाल श्रेष्ठ

2 thoughts on “मीडिया समाज का आइना ?

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s