अन्ना जी का कार्यालय

अन्ना जी का कार्यालय आजकल विवादों में है, मेरे हिसाब से अन्नाजी का कार्यालय तो ऐसी जगह है जहा से कोई हटा नहीं सकता, निकाल  नहीं सकता, पक्का ठिकाना है अन्नाजी के कार्यालय का वहा, चलो ये बाते बाद में, सुरुवात उस विवाद से जिसने मुझे भी सोच में डाल रखा है,
मुझे समझ में उस समय भी नहीं आया था की श्रीमती किरण बेदी ने क्यों उस जगह का चुनाव किया, घर की बात तो बहुत दूर उस जगह  उस तरह के हाय क्लास सोसाइटी में श्री अन्ना हजारे जी का कार्यालय होना ही नहीं चाहिए, मेरे हिसाब से हमारा कार्यालय (अन्नाजी का ) एक मिडिल क्लास सोसाइटी में होना चाहिए था, एक ऐसी जगह जहा बस और मेट्रो से पहुच सके, मिडिल क्लास में भी लोअर मिडिल क्लास, मेरे नज़र में कई ऐसे जगह है जहा श्री अन्ना  हजारे अपना कार्यालय बना सकते है, ऐसी जगह जहा 3 रूम सेट का किराया 10000 से 15000 ही हो और 3 या 4 कार खरी करने की सुविधा(आसपास) मिल जाये, नौकरीपेशा और माध्यम वर्गीय लोगो के बस्ती में रहने से वे सीधे आम आदमी तक पहुच सकने में भी समर्थयवान  होते ।( यहाँ मैं ये साफ कर दू मैं किरण जी या किसी और की कोई बुराई या उनके निर्णय का विरोध नहीं कर रहा, केवल मन में जो बात उठी वो बाते आपसे बाट रहा हु, )
गोविन्दपुरी,तुगलकाबाद,कालकाजी,महारानी बाग , महरौली,साकेत के कई इलाके,ईस्ट ऑफ़ कैलाश आदि कई जगह है दक्षिन देल्ली में, जहा मेट्रो और बस दोनों से आराम से पहुच सकते है,
अगर ईस्ट देली की बात करे तो पटपरगंज , सकरपुर, लक्ष्मीनगर,विवेक विहार आदि
नार्थ देल्ली- और सेंट्रल देल्ली से अच्छा साउथ और ईस्ट देल्ली रहेगी,ये वो इलाके है जहा आप आराम से पहुच सकते है और आपके (अन्ना ) के चाहने वाले बरी संख्या में है,खास कर महरौली और साकेत के इलाके जे एन यु के करीब भी है जिससे छात्रों की सख्या भी बढ़ जाती।
अभी भी देर नहीं हुए, हमें हक है की हम अपने कार्यालय को कही भी स्थानानतरित करे,अन्ना आन्दोलन कही से भी चल सकती है क्युकी अन्ना जी का असली और स्थायी कार्यालय तो आम-हिन्दुस्तानियों का दिल/ह्रदय/मन है। दिल में रहने का कोई किराया नहीं लगता, और वह से कोई अन्नाजी को निकल नहीं सकता। पक्का ठिकाना है अन्नाजी के कार्यालय का वहा, क्यों सच कहा न मैंने ?

अन्नाजी का स्वास्थ आजकल ठीक नहीं रहता,      Image  कुछ भितरघात के कारन थोरा उनके हृदय में चोट पहुची है और ये स्वाभाविक है, आखिर अन्नाजी भी आम इन्सान ही है, चलो कोई बात नहीं अब श्रीमती बेदी जी और अन्य सहयोगियों के कारन वो जनता से संवाद कर रहे है, और हमें इंतजार है अन्नाजी के हुंकार का, उस हुंकार का जिसे सुनकर कुर्सी के पिपाशु नेतागण हिल जाये, हम तैयार है और हम अन्नाजी के इशारे पे खुद भी बदलने को तैयार है और सत्ता नहीं व्यवस्था को भी बदलने के लिए तैयार है क्यों दोस्तों है न तैयार?
जय हिन्द जय हिन्द की सेना
अन्ना जी के स्वस्थ मंगल कामनाओ के साथ आपका ,विशाल श्रेष्ठ

Flying Duck Orchid (its unbelievable )

unbelievable!!,

Image

yes friends its really unbelievable that there is a orchid like this – the flying duck orchid scientific name -Caleana major.

when i first saw this in my Fb frnds wall i can trust that, i think it may be fake, so i search it in Google and here i find some great information.
In Asia, Europe , Africa and America every were lots of people are nt aware about this beautiful  orchid , but in Australia every one know this, in Australia orchid was featured on an Australian postage stamp too,   Image

Flying Duck Orchid is a small orchid found in eastern and southern Australia  This terrestrial plant features a remarkable flower, resembling a duck in flight. The flower is an attractant to insects, such as male  sawflies which pollinate the flower in a process known as  pseudocopulation. In 1986 this orchid was featured on an Australian postage stamp ,

 

lets she once again how beautiful it is……..    Image

Occurring from Queensland to South Australia and Tasmania, this plant is found in  eucalyptus woodland in coastal or swampy shrubland and heathland . Mostly near the coast, but occasionally at higher altitudes. Because of the small size, it is a difficult plant to notice in the wild.

Image

(its closed flying orchid).

This terrestrial plant features a remarkable flower, resembling a duck in flight. this orchid  grow on the green stem. The single leaf, appears near the base of the stalk. It is usually prostrate, narrow-lanceolate, to 12 cm (5 in) long and 8 mm wide, often spotted. The flower is reddish-brown, 15 to 20 mm long. In rare cases, the flower can be greenish with dark spots. The plant is pollinated by insects. A sensitive strap is attached to the flower, which is triggered by vibration. Flowering occurs from September to January

Caleana major has been difficult to maintain in cultivation. Plants flower for one or sometimes two years but progressively weaken until they die.

hope all of u enjoy this, caleana major is one of the best orchid in world, the graet amazing art by nature , i salute to the nature , save the nature serve the nature
thanks ———————- 🙂

note- images credit goes to Wikipedia and other sites , image may be under copyright act , all of information is true and taken by diffident websites, special thanks to Australian sites  and Wikipedia

……………………..vishal shresth

Bharat which is India ( भारत जो इंडिया है )

भारत विच इज इंडिया – भारत जो इंडिया है :
आजकल कुछ महान नेता भारत और इंडिया में भेद पैदा कर रहे है, अपने सुविधा के अनुसार नित नये परिभाषा गढ़ रहे है, महान श्री मोहन भगवत के अनुसार बलात्कार जैसी घटनाये भारत में नही इंडिया में होती है,जिस पर श्री किरण बेदी और दुसरे सामाजिक कार्यकर्ताओ ने उन्हें उचित जवाब दिया,श्रीमती किरण बेदी ने कहा है की भागवत जी को दिखायी नहीं देता, भारत (जो की गाव है) की बात है तो मैं बता दू  की गाव में या छोटे शहर में घटनाओ के खिलाफ केवल 20 % ही रिपोर्ट दर्ज होती है,बाकि या तो दर के मारे दर्ज नहीं होता या पुलिस कार्यवाही उसे होने नही देते,  जबकि बरे शहरो में मीडिया और पुलिस के साथ साथ समाजिक कार्यकर्ताओ के दवाब के कारण  घटना दर्ज होती है,
महान कैलाश विजयवर्गीय मंत्री मध्य-प्रदेश अपने शुभ वाणी से महिलाओ के लिए लक्ष्मण-रेखा के अंदर रहने को कहते है, और इनके खिलाफ महान कांग्रेसी नेता धरने-प्रदर्शन और बयानबाजी पे उतारू है, ये वही कांग्रेसी लोग है जिनके एक नेता बलात्कार करने के कोशिश में अभी कल ही पिटे गए, इधर विजयवर्गीय और बीजेपी के एक और नेता श्री बनवारी  लाल के अनुसार स्कर्ट और दुपट्टे का न होना बलात्कार का प्रमुख कारण  है,
मुझे इक और बयान याद आ रहा है -गीतिका तो कांडा की गलत नौकर थीं – शिवचरण शर्मा मंत्री हरियाणा,इन सभी लोगो के बारे में एक बात सामान है, ये सभी मानसिक दिवालियापन के शिकार है,
महान विजयवर्गीय कहते है-महिला जब लक्ष्मण-रेखा पार करेगी वहा रावण खरा है और फिर ऐसी घटनाये होंगी। महिलाओ के लिए मर्यादा की बात करते है। Image
मेरा साधारण सा सवाल है , 1-यदि रावण खरा है तो आप रावण को जानते भी होंगे, तो फिर उनका संहार करे! महिलाओ पे क्यों पाबन्दी लगा रहे है?

2- क्या सारे बलात्कार जीन्स या स्कर्ट के कारण हुए? दामिनी/निर्भया या दुसरे पिरीता  तो सलवार-समीज में थी और जब छोटे बच्चो पे  ये घिनौना अपराध  होता तो आपका ये तर्क क्यों कम नहीं आता?
मित्रो सभी पार्टियों को (कांग्रेस,बीजेपी,मार्क्सवादी, अन्य,……) मानसिकता बदलने की जरुरत है । भारत और इंडिया में कोई अंतर नहीं है, और महिलाओ और पुरुषों में भी कोई अंतर नहीं है।
महिलाये जीन्स पहने या स्कर्ट पहने या फिर भारतीय परिधान (साडी,सलवार) उनको हक है , अपने मुताबिक कपरे पेहेन्ने का।बस ये ख्याल रहे की कपरे का चयन ऐसा हो की आपको अपने परिवार और समाज में कही भी कभी भी खुद शर्म महसूस न हो। अगर आप सहज है तो आप सही है और आपको घबराने की जरुरत नहीं, भारत जो की इंडिया है आपके साथ है।
इरोन शर्मीला भी इन्ही विकृत मानसिकता, समाज और प्रसाशन के खिलाफ  20 सालो से संघर्षरत है , किरण बेदी,मेघ पाटेकर,अरुणा रॉय आदि समाजिक कार्यकर्ता भारत और इंडिया को एक करने में  सालो से जुटे है।
 थोरा आश्चर्यचकित हु की भारत में कई जगहों पे महिला नेता काफी ताकतवर है जैसे- सोनिया गाँधी और सुषमा स्वराज्य (केंद्र में ) , मायावती (भूतपूर्व सी एम् -यूपी),ममता बनर्जी (सी एम् -बंगाल) , जयललिता (सी एम् -तमिलनाडु ),शीला दिक्षित (सी एम्-देल्ही ) , उमा भारती (भूतपूर्व सी एम् -एमपी) बृंदा करात (नेता  सीपीएम ) आदी……! मगर कोई भी नेता अपने पार्टियों के नेताओ को कुछ नहीं कहता , जब महिलाओ की बात महिला ही नही उठाएगी तो वक़्त तो लगेगा देश और समाज को बदलने में ।
 भारत जो की इंडिया है और साथ में हिंदुस्तान भी आज देश के बेटियों के साथ है,और समाज में इनके अधिकार के लिए कदम से कदम मिला कर ।
भारत जो की इंडिया है इन सभी नेताओ की निंदा करता है, और सबको साथ ले चलने की ईक्छा रखता है और तब तक- जब तोमर डाक सुने कोई न आशी तबे एकला चलो रे!

………………………..विशाल श्रेष्ठ