रेशम की राखी

रेशम की राखी

वो भी एक बहन थी, गरीबी से तंग थी!
पर मस्त-मलंग थी,स्वाभिमानी बहन थी!!
वो रेशम की राखी लाती कहा से!
भाई की कलाई पे सजाती कहा से!!
आँखों पे आशु छुपा-छुपा के!
लोगो की नज़रे बचा-बचा के!!
सूत के धागे पिरोया फिर उसने!
उस धागे से राखी बनाया फिर उसने!!
लाखो सपने सजा सजा के रखी थी!
मैं आउंगी भैया बता के रखी थी !!
पर राखी की थाली सजाउंगी कहा से!
दो मिठाई खरीद कर लाउंगी कहा से!!
पैसे तो घर में सदियों से नहीं है!
सय्या है परदेश,घर पे नहीं है !!
गुर की एक चासनी बनाया !
उस चासनी से फिर एक लड्डू बनाया!!
राखी को पहुंची भाई के आँगन में !
कारो के काफिले से सजी उस भवन में!!
Image
थे आंखे नम ,तन पे कपरे भी कम!
भाई ने जब प्यार से पुकारा,हुए आंखे नम !!
बंधवाई राखी बरे प्यार से भाई ने!
गले से लगाया फिर भौजाई ने !!
दिये तौह्फे में सोने का गहना !
तू सबसे प्यारी है ए-मेरी बहना !!
बहना ने बोला मेरी प्यारे भैया !
तेरा प्यार ही बहुत है, मान मेरा कहना !!
रिश्ते में है प्यार,बस येही है मेरा गहना !
इतना है अनुरोध बस घर-आते रहना!!
इतना है अनुरोध बस घर आते रहना!!!!
© vishalshresth – all rights reserved.

Hariyali Teez( हरियाली तीज) -Holy Festival of India

हिन्दुओ का अत्यंत महत्वपूर्ण पर्व हरियाली तीज की हार्दिक बधाई,हरियाली तीज को तीज , छोटी तीज ,श्रावण तीज या सावन तीज भी कहते है, शुक्ल पक्छ के त्रित्या (३) को नाग-पंचमी के २ दिन पहले मनाया जाता है,Image

हरियाली तीज भगवान शिव और माँ पार्वती के नाम पर मनाया जाता है,

Imageशादी-शुदा महिलाये वरत करके अपनी सुखी वैवाहिक जीवन की कामना करती है, आज के दिन नए कपरे पहन,हाथो को मेहन्दी से सजा चुरिया आदि श्रृंगार कर सज-सवरती है,

Imageखुशीया भरे तीज गीत गाकर दिन गुजरता है, कई जगहों पे खास कर पंजाब-हरियाणा में तो महिलाये झूलो पे गा-गाकर खुशिया मानाते है ,

Image
चढ़ावे में सुहाग सम्बंधित भोग लगता है,साथ में कम से कम १३ प्रकार के मिस्ठान चढ़ाया जाता है, जिसमे घेवर प्रमुख है,

hARIYALI

आप सभी को इस पावन पर्व की शुभकामनाये

note- pics may be the subject of copyright, image credit- google search