“my love for u is true” (poem)

vis

…… “My love for u is true”…….

“The words I’m afraid to say”

feared by the reply

I may receive?

I’v no sence of direction

please tell me

how to say?

my love for u is true!!

I love u more then me

it’s true, will u plaese recive

I’m always givinh u sign

my love for I is true!!

Nobody there,it’s only u

if you could understand my silence

u r always in my thought

my love for u is true!!

And the words I’m afraid to say

what would I do to be with u

tell me once I’m ready to do

antyhing,anything for u baby

coz, my love for u is true!!

the words I’m afraid to say

I’v no sence of direction

please tell me

how to say?

my love for u is true

What would I do to be with you,
tell me once I’m ready to do

manokaman temple (natural view)

manokamna maay(manokamna mother)

manokamna maay is a hindu holy place, were we go for worship, it is beautiful hill place, natural look ,tree mountain , cloud historical place and heritage buildings with cable car facility, specially for kids its a great adventure  spot  picnic at gorkha near kathmandu nepal, hieght is 1300 fit

,Image

Image

 

 

Image

 

Image

when i am saying ” i m ok !! “

when I m saying I m ok!!!!

I am not ok!!, yes I miss u very much , just passed 12 year when u said to leave me

I am not searching love anymore , I am already in love , Ilove u and I don’t care u don’t love me anymore , that’s your design to leave me alone, I don’t know why ? u don’t need to tell me , u are not answering my question …………………………………………!!

its you who came to me, its you who promised to be mine till die, very soon you forget that , but how could I? coz I love you , you are in my soul ,you are in my every breath.

I need peace , I m really not ok since may 2002, searching something here and there, I really need peace

limbini

may be I get some peace here at lumbini (were lord Budhdha born)

Ialways listen and sung this song— “Can’t Stop Lovin’ You”

There’s a time and place for everything, for everyone
We can push with all our might, but nothing’s gonna come
Oh no, nothing’s gonna change
And if I asked you not to try
Oh could you let it be
I wanna hold you and say
We can’t throw this all away
Tell me you won’t go, you won’t go
Do you have to hear me say
I can’t stop lovin’ you
And no matter what you say or do
You know my heart is true, oh
I can’t stop lovin’ you
You can change your friends, your place in life
You can change your mind
We can change the things we say
And do it anytime
Oh no, but I think you’ll find
That when you look inside your heart
Oh baby, I’ll be there
Hold on
I’m holding on
Baby, just come on, come on, come on
I just wanna hear you say
I can’t stop lovin’ you
And no matter what you say or do
You know my heart is true, oh
I can’t stop lovin’ you
Oh, I’m twisted and tied
And all I can remember
Is how hard we tried
Only to surrender
And when it’s over
I know how it’s gonna be
And true love will never die
No, not fade away
I can’t stop lovin’ you
And no matter what you say or do
You know my heart is true, oh
I can’t stop lovin’ you
And I know what I got to do
Hey ray, what you said is true
I can’t stop lovin’ you, oh
Oh, I can’t stop lovin’ you

baby its true…………… I cant stop loving you

by the bottom of my heart

i love my loneliness

Loneliness is some time very important and it’s the best friend of mine I think , sometimes loneliness gives a best opportunity to search for true love, true soul mate and true self and get connected with supreme source of joy n love , in loneliness we can hear some unsaid words some forgettable words and we listen n learn from our past .

Sometimes loneliness depressed u but u have to fight with your depression and hard situation, depression is not an illness or disease, it’s a opportunity given by nature to understand your soul and understand your true frnds.

I prefer to use my time in loneliness with short travelling, writing poems, making some bad paintings, gardening and most of the time listening music , the best thing about listing music is very easy and also in loneliness u can understand and love lyrics but when u r so busy or happy than u listing only music u dnt care about words n lyrics.

Loneliness also give u a chance to start a new life , a new beginning and its help me to work hard for future. SNC00090

The saddest part of loneliness is its give me so many bad memories and I start remembering my past my love my dream and I start crying, I really start crying a hard and I get nervous I put so many stretch in my mind   n in my heart . I start hated loneliness but after sometimes I realize the situation the truth and start thinking about my future.

I love my loneliness, it’s a part of life its not about hole life its only a part of life and I accept it like a challenge of life and then I start enjoying my loneliness,

Yes! I love my loneliness its my true friend

Miss u Delhi (Delhi meri jaan)

Miss u really really miss u Delhi ;-(

i came here at September  2006. Almost 7 year and 6 month I spend here,when i came here I have only 900 rs (150$) in my hand, I started struggle here, hard work n dedication help me to get right position very soon, after 9 month I got a new job in ICICI Bank ltd as a relation executive after 3 years I join Kotak Mahindra. I also worked in Hdfc Bank as Ast Manager .

I travel may places,Taj-mahal (Agara) and Vaisno Devi ,jammu, Jaypur, pushkar, lumbini (nepal-where lord budhha born) and many more place, I really enjoy a lot ❤

Image

—————————–Qutub Minar New delhi——————————–

Image

———————————–Lumbini (nepal) where Lord Buddha born ———————

Image

—————at Anna Andolan (A Revolution ) at Delhi————

Image

————at Ajmer Sharif with frnds————–

Image

———————Taj Mahal with Frnds __________-

Really its a long and nice journey come to end, i dnt want to go back, but i have to go in my home city Darbhanga and from there my travel start to Kathmandu or Biratnagar Nepal for some personal work(its very imp)

miss u delhi

byeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeee

vishal shresth

ढाई आखर प्रेम का पढ़े सो पंडित होई – love is god – love is all-around

प्रेम-प्यार-इशक़-माया-अनुराग-प्रीत और न जानें कितने नाम है इस पवित्र रिस्ते के , न जानें कितने तरह के भाव है
न तो कोई सीमा है न कोई बंधन है , ये तो बस उरना जनता है प्यार बाटना जानता है !
पोथी-पोथी पढ़ जग मुआ , पंडित भया न कोई
ढाई आखर प्रेम का पढ़े सो पंडित होई !!
कबीरदास ने क्या सही कहा था , मैं तो नत मस्तक हु उनके इस विचार पे , इस सन्देस पे !
प्रकृति ने या उस नीले छतरी वाले ने कोई बंदिसे बन्दों पे नही लगायी ये तो हम है जिन्होंने मानव को मानव से बाटा,
पहले धर्म के नाम पर, फिर जात के नाम पर फिर रास्ट्रीयता के नाम पर, रंग-भेद के नाम पर फिर बाटा आमिर-गरीब के नाम पर
, बस बाटते रहे – बस बाटते रहे, और जिन्होंने भी जोरने का प्यार का धागा पिरोने का कम किया उन्हें पागल घोषित कर दिया !
खैर यहाँ मैं अपने पे आता हुँ !
मैं काफी खुस था अपने प्यार में , बरा भरोसा था, साथ जीने-मरने कि कस्मे भी दोहराता था
मगर आज से ११ साल पहले सिर्फ इसलिए मुझे छोर दिया गया ( शायद ) क्युकी मेरा सरनेम श्रेस्ठ था
और उनका कुछ और ……….
न उम्र कि सीमा हो न जन्म का हो बंधन – जब प्यार करे कोई तो देखे केवल मन …………………………………………

Image

और हम आज भी उनके है
विशाल श्रेस्ठ

आजाद मुल्क में सेक्स गुलामों का गांव! (बेडिय़ा समुदाय) malaha gao, bharatpur

आजाद मुल्क में सेक्स गुलामों का गांव!

कैमरा देखते ही दो बहनें चौकन्‍नी हो उठीं जबकि तीसरी चादर में छुप गई
बैठेगा क्या? भरतपुर के बाहर जयपुर हाइवे पर दो किलोमीटर के एक हिस्से में ये दो शब्द साफ सुने जा सकते हैं. इसका सीधा-सा अर्थ ‘सेक्स के लिए बुलावा’ है. इशारा करती आंखें और अर्थपूर्ण अंदाज में हिलते हुए सिर वहां से गुजर रहे पुरुषों को सीधे-सीधे न्यौता देती हैं.तीस साल की मंजु ठाकुर इस कमाऊ पेशे का बचाव करते हुए कहती हैं, ”सेक्स हमारा खानदानी धंधा है. ” छोटे कद की लेकिन खासे दमखम वाली मंजु, राजस्थान और मध्य प्रदेश में पाई जाने वाली बेडिय़ा नाम की एक जाति से ताल्लुक रखती है. इस तबके में लड़कियां अकसर किशोरावस्था में ही समाज की सहमति से वेश्यावृत्ति के धंधे में उतार दी जाती हैं.

भरतपुर के मलाहा गांव के पास कचरे से अटी सड़क के किनारे अपना धंधा चलाने वाली मंजु खासी अनुभवी हो चली हैं. उन्हें यही एक धंधा आता है. वे बताती हैं, ”मैं उस वक्त 10 या 11 साल की थी, जब मेरे बाप ने मुझे धौलपुर के एक बहुत बड़े कारोबारी के यहां भेजा था. ” जीवन के उस पहले सहवास की एवज में परिवार को 10,000 रु. मिलने की बात को वे याद करती दिखती हैं.

”बीसेक साल पहले यहां किसी लड़की को कौमार्य भंग की एवज में मिलने वाली यह सबसे ज्यादा रकम थी. ” वे फख्र के साथ यह भी बताती हैं कि आज भी किस तरह ”जयपुर के धनी-मानी कस्टमर” उसे खोजते हुए आते हैं.

पंछी का नगला नाम से पहचाने जाने वाले मलाहा गांव में आज 100 से ज्यादा बेडिय़ा स्त्रियां देह व्यापार के धंधे में हैं. कपड़ों से झांकते अंग, चेहरे पर पाउडर की परतें, गहरे लाल या बैंगनी रंग की लिपिस्टक लगाए इन महिलाओं की बेचैन निगाहें आते-जाते लोगों में अपने ग्राहक की तलाश करती दिखती हैं.

2005 में यहां बने फ्लाइओवर से बेडिय़ाओं की बस्ती दोफाड़ हो जाने के बावजूद उनके पुश्तैनी धंधे पर कोई असर नहीं पड़ा. शायद यह राजस्थान में एकमात्र ऐसी जगह होगी जहां गाड़ी वाले फ्लाइओवर का इस्तेमाल करने की बजाए नीचे वाली ऊबडख़ाबड़ सड़क से जाना पसंद करते हैं— ‘दिलकश नजारा’ देखने के लिए.

एक दूसरे संभावित ग्राहक की आस में, गहरी लिपिस्टक लगाती मंजु कहती हैं, ”धंधा चोखा है. ” मंजु, उसकी बहनें 25 वर्षीया निशा, 24 वर्षीया रेशमा और उनकी 20 वर्षीया बुआ चांदनी मिलकर 40 लोगों का परिवार चलाती हैं. इस परिवार में उनके पांच भाई, उनकी बीवियां, बच्चे और इस धंधे से पैदा इनकी खुद की एक संतान शामिल है. मंजु की 50 वर्षीया मां सरोज कहती हैं, ”बहुत कोशिश की कि ये शादी कर लें मगर इन लड़कियों ने इस ओर कान तक न दिया. ”

इस गांव के मर्द यहां की औरतों को जबरन इस पेशे में धकेले जाने के आरोप को सिरे से खारिज करते हैं. छह बहनों और दो बुआओं की कमाई पर पल रहे 37 साल के विजेंद्र साफ-साफ कहते हैं, ”जबर्दस्ती का नहीं, राजी का सौदा है ये. ” थुलथुले बदन के विजेंद्र का दावा है कि उनकी हर बहन से पहले पूछा गया था: ”धंधा करोगी या शादी?”

मंजु और निशा के 39 वर्षीय भाई लाखन भी इसमें हामी भरते हैं. एक चमचमाती मोटरसाइकिल और स्कार्पियो के मालिक लाखन कहते हैं, ”सरकार मुझे कोई ठीकठाक नौकरी दे दे तो मैं बहनों को देह व्यापार में जाने से रोक लूंगा. ” उन्हीं के पीछे खड़ी दोनों बहनों के रंगे-पुते होठों पर व्यंग्य भरी मुस्कराहट दौड़ जाती है.

निशा मर्दों वाली एक कहावत दोहराती हैं ‘शादी तो बर्बादी है’. बेडिय़ा मर्दों की बीवियां अमूमन इस पुश्तैनी धंधे में हिस्सा नहीं लेतीं. वे खाना पकाने, सफाई और अपनी कमाऊ ‘ननदों’ के बच्चों की देखभाल जैसे घरेलू कामों में वक्त बिताती हैं. निशा रूखे स्वर में बोलती हैं,”गृहस्थी का काम खच्चर का.”

” निशा ने अपनी ‘कामकाजी’ बुआओं की कमाने और खर्चने की आजादी और घर के कामों में खटती मां को देखा है. थोड़ा हिचकते हुए वह बताती है कि वह 14 साल की उम्र में पूरी तरह से इस धंधे में उतर गई थी. 10 साल बाद अब वह एक दिन में 1,200 रु. से 2,000 रु. तक कमा लेती है.

यानी रोज की सरकारी दिहाड़ी 149 रु. से दस से बीस गुना ज्यादा. एक दिन में उसे 6 से 10 पुरुषों के साथ सेक्स करना होता है. उसके मुताबिक, त्यौहारों के आसपास या फिर मजदूरों को तनख्वाह की तारीखों के आसपास यह कमाई दोगुनी तक हो जाती है.

यहां लड़कियों के लिए इस ‘व्यापार के गुर’ सीखने में वक्त नहीं लगता. बचपन से वे देखती आ रही हैं कि सड़क किनारे चादर बांध उसके पीछे 10 मिनट में सेक्स करके बुआएं कपड़े दुरुस्त कर बाहर आ जाती हैं. मंजु बताती हैं, ”एक दफा एक ग्राहक जब टेढ़ेपन से पेश आने लगा तो उसने भाई को आवाज लगा दी. यही मेरा असली सबक था, बाकी तो देखा-सुना था.”

लेकिन हर बेडिय़ा यौनकर्मी मंजु जितनी किस्मत वाली नहीं होती. मंजु और निशा के घर से बमुश्किल 50 फुट दूर एक झोंपड़ी में रह रही 30 वर्षीया काली (बदला हुआ नाम) की मुश्किलें खत्म होने का नाम नहीं लेतीं. दो साल पहले एचआइवी ग्रस्त होने की बात पता चलने के बावजूद वह धंधा कर रही है.

काली कहती है, ”मुझे और कोई काम ही नहीं आता. भाई अभी इतने छोटे हैं कि कमाने नहीं जा सकते. ” वह तुरंत जोड़ती है कि अब वह बिना कंडोम सेक्स नहीं करती.

बैंकॉक स्थित संगठन ग्लोबल एलांयस अगेंस्ट ट्रैफिकिंग इन वूमैन की संस्थापक सदस्य 57 वर्षीय ज्योति संघेरा कहती हैं, ”गरीब महिलाओं के काम और उनके चयन के संबंध को समझना जरा टेढ़ी खीर है. वास्तव में हाशिये पर जी रही एक महिला के लिए ‘बलात’ और ‘स्वैच्छिक’ यौन कर्म में अंतर करना बेमानी होता है. ”

पक्षी विहार के लिए मशहूर भरतपुर जिले में दूसरी बार कलेक्टर बनकर आए 34 वर्षीय नीरज कुमार पवन इन बेडिय़ा परिवारों के लिए रॉबिनहुड बनकर उभरे हैं. उनका मानना है कि सदियों पुरानी परंपरा को पुलिस डंडे के जोर पर खत्म नहीं करा सकती.

आठेक साल पहले जिला प्रशासन ने बेडिय़ा बस्ती में आग लगवाकर उन्हें वहां से खदेडऩे की कोशिश की थी. एक कुप्रथा को खत्म करने की यह अमानवीय कोशिश थी. अब वहां स्कूल खोलने की इजाजत ले आए हैं. हालांकि पक्षीविहार का इलाका होने की वजह से यहां स्कूल जैसे पक्के निर्माण पर आपत्तियां उठाई गईं.

खैर, यौनकर्मी 35 वर्षीया रिया को अब लगता है कि उनकी ”बेटी की जिंदगी अलग होगी. ” 11 साल की इकलौती बेटी अर्चना को रोज स्कूल भेजना अब उनकी दिनचर्या में शामिल है. रिया के लिए ‘धंधा’ छोडऩा आसान नहीं पर वह कहती है कि ”मेरी बिटिया वही करेगी जो वह चाहेगी. ”

भरतपुर कलेक्टर की लगातार कोशिशों का नतीजा है कि मलाहा और पास के बगदारी गांव—जहां कुछ बेडिय़ा परिवार 2005 में हाइवे बनने पर चले गए थे—में बदलाव की सुगबुगाहट है. पवन का दावा है कि ”18 साल से कम उम्र की कोई लड़की यौनकर्म में शामिल नहीं. उधर अफवाह है कि दो किशोरियों के कौमार्य की कीमत डेढ़ से दो लाख रु. लग रही है. एक बेडिय़ा लड़की के विवाह करने पर इसकी आधी रकम मिलती है.

30 वर्षीया मंजु 20 साल से देह व्यापार में है

बगदारी के बाहर करीब 15 बीघे में फैली झुग्गियों में रह रहे बेडिय़ाओं के लिए जिंदगी सचमुच बेहद दुश्वार है. वे बिजली-पानी के बगैर जीने को विवश हैं. गांव के स्कूल में उनके बच्चों को अलग कर दिया जाता है. ऊंची जाति के सरपंच की उन्हें वोटर या आधार कार्ड मुहैया कराने में कोई दिलचस्पी नहीं. बस्ती के शुरू में ही लोहे की दुकान चलाकर गुजर-बसर करने वाले 29 वर्षीय रवि कुमार कहते हैं, ”अपने ही वतन में हमें पराया बनाकर छोड़ दिया गया है. ”

कुमार और उनकी 60 वर्षीय मां लीलावती इस बात की ताकीद करते हैं कि जब तक उनकी बिरादारी की खूबसूरत लड़कियों को सेक्स से बढिय़ा आमदनी हो रही है, तभी तक यह गाड़ी चलेगी. रवि को गहरी शिकायत भी है, ”गांव के (ऊंची जाति के) लोग जान-बूझकर हमारे बच्चों के साथ दोयम दर्जे का व्यवहार करते हैं और हमारी ही बिरादरी की लड़कियों के साथ सोने के लिए लाइन लगाते हैं. गांव का आदमी होने की बात कहकर पूरे पैसे भी नहीं देते.

महाला गांव के फ्लाइओवर के नीचे से जा रहे 20 फुट लंबे अंडरपास की कंक्रीट की दीवार पर लिखा है, ”प्यार का अनमोल तोहफा—फ्रीडम 5. पांच साल तक प्रेग्नेंसी से टेंशन फ्री. ” बेडिय़ा औरतें इस पर हंसते हुए कहती हैं, ”बच्चे तो अच्छे होते हैं. लड़कियां होगीं तो ज्यादा कमाएंगी और लड़के उनकी हिफाजत करने के काम आएंगे. ”

असित जॉली | सौजन्‍य: इंडिया टुडे | भरतपुर, 23 अक्टूबर 2013 | अपडेटेड: 12:39 IST

note– all right reserve to aajtak only राजस्थान का यह वो गांव है जहां सेक्स खानदानी धंधा है…
http://aajtak.intoday.in/story/sex-as-trade-and-tradition-1-745295.html

What is name? everything is Surname ! (respect the Surname)

“What is name, everything is surname “

What’s in a name? That which we call a rose by any other name would smell as sweet- William Shakespeare

Sorry Shakespeare sir! You are wrong now!

Image

Now everywhere in this fake or real world we want to introduce our self with our name and if we have a powerful surname (belongs to powerful family) we pronounce surname proudly, for example (Indian examples)  

1-Rahul Gandhi &  Barun Gandhi (political family)

2-Abhisek bachchan ,  (film industries)

3- Uday chopra (film industries)

4- Rahul Mahajan (political family)

5- Arman kohli (film industries)

6- Anil & mukesh Ambani (industrialist)

and many more name , they are there becoz of their surname only, sometimes they also said that we are here in power coz of our family background, omce Rahul Gandhi said- “ I m here and u are also here to hear my speech as a party vice president, its becoz of my Gandhi surname, otherwise I have to work more hard to get this position, “

yes its true whenever we want to know about somebody we said your good name please , if he/she ask only name , we repeat sir your full name or surname plz, surname helps me/us to know more about his family background or his cast/religion background, dear friends I m Rajpoot (chatriya) if somebody says I m abc singh I like his/her surname ,oh! Singh that’s good! We impress with her/his cast/religion, no matter how good/bad he/she is ……………….,

jok(joke)

The actual meaning of A surname is a name added to a given name and is part of a personal name.In many cases, a surname is a family name and many dictionaries define “surname” as a synonym of “family name”.

That’s why I said this is a fake world we believe in fake identity , we don’t love human we love his background we love his/her surname , we love his/her cast & religion and now these days we love his/her political thoughts

So my dear friends what is name everything is surname

vishal shresth 

note-kindly take it easy please

Anshu the wonder Boy

SAMSUNG

harry poter look

Anshu the wonder Boy- anshu is small kid (age 3 year) he is son of my best friend rekha and sunny,he is so sweet n soooooooooooooo naughty  living at najafgarh Delhi , i always wondering how he get so many energy for his naughtiness , he loves to run , play, dancing and playing wid puppy . Image

i love his all naughtiness

Image

Anshu at chattarpur mandir (delhi) oct 2013.

IMG00288

ansu n ma

all pics taken by mobile only

vishal shresth