June 1944 (1) — Pacific Paratrooper

1-3 June – on the first of the month, the 7th Indian division overran the Japanese positions in Naga Village, Burma. The USS Herring, a Gato-class submarine was shelled and sunk off Matsuma, Kuril Islands, by Japanese shore-based artillery with the loss of all 60-man crew. The 5th Brigade accomplished outflanking the enemy around Aradura. […]

via June 1944 (1) — Pacific Paratrooper

Surgical Strike

Finally after a long time Indians shown their power. the hole world knows that Pakistan is country which always support terrorism. Pakistan is also victims of many terrorist attack.
In India, when the Modi government came in power we the people’s are waiting for an action against Pakistan,because they promise so many time that they are going to teach some lesson to pakistan.

Nearly 10 days after the Uri attack that claimed 18 jawans, India carried out surgical strikes in Pakistan Occupied Kashmir, inflicting heavy casualties on terrorists and ‘those protecting them” and indicating a change of stand on the rules of engagement on the disputed line of control.

Indian DGMO Lt Gen Ranbir Singh announced that Pakistan had been informed about the strikes and that India has no intention of continuing the operation. after this Pakistan arrange a cabinet meeting after this so called Surgical Strike and give a statement that this is totally fake. Isn”t it ?

in
Here I am going to describe you how Indians finished his excellent operation 9according to many news agency)  

1. Operation begins around 12.30 am on Wednesday. According to reports, paratroopers from Special Forces were involved.

2. The commandos were airdropped at the LoC, from where they crossed over to the Pakistani side.

3. According to sources, Indian commandos entered three Km across the Line of Control to conduct the ‘surgical strikes’

4. The strikes were carried out in Bhimber, Hotspring, Kel & Lipa sectors, on Pak’s side of LoC, according to reports.

5. The location was 500 meters-2 Km across LoC, sources said

6. 7 terror launch pads were destroyed during the surgical strike

7. 38 terrorists and 2 Pakistani soldiers were killed in Indian Army surgical strikes, no Indian casualties. Those killed included terrorists, their guides and handlers

8. Helicopters were used.

we hope that in coming days we live our life in peace but Pakistan may have different plan
let see!

 

 

Shresth Vishal

India and Nepal relationship is in danger

Nepal is suffering from lots of problems these days. first its take a long time to constitute its constitution, and just then Nepal government is not able to short out the problem between India and Nepal.

Nepal is a land-lock country, Nepal south border touch with India and north with China. the Himalaya is in north so china is not easily able to help Nepal. so, Nepal has to purchase all goods through Indian border. but, nowadays India seal his border in the name of security reason. I am not able to understand why Minister  sushma swarjya and PM modi ji not serious to solve this issue. hence China is taking interest  to help Nepal.

The hole world knows that china is always want to work against India, if China is going to help Nepal then this is great loss of India only, all the Nepalese people is suffering from oil,petrol and cooking gas. Nepal government is trying to solve the problem but its a warning for India. The relation between India and Nepal is in danger.

nepal

all the world knows that Pakistan, china ,Bangladesh and sri-lanka is not Indian supporting neighbor  only Nepal is indian true friend. so if India lost his small but true friend then its a great loss for Indian diplomat.

So, i request to PM Narendra modi ji please try to short-out this problem

Regards

shresth vishal

6 september ( indo-pak war)

6 September is very important day for Indian Army History , in 6 sep 1965 a war against Pakistan we reached at Lahore after demolishing  Pakistan army  , we reached sialkot also , pakistan think that Indian never cross the border, but after surprise attack from pakistan we have no other option , we have to gave him good lesson so first time in Indian history we cross our limit, we always believe in love n peace , still we have full faith on “vaishudhev katumbakam ”  (every one is our brother) , but if anyone attack our Mother land we are ready to punished him any how.

Image  this picture is taken at police station  near lahore (pakistan)

pakistan attack with Gibraltar plan to free Kashmir, they sent thousands  of militancy in kashmir for rights n war , we the Indians are not aware about that, so we are not ready for any war, but our Prime Minister shri lal Bahadur Shastri is a Iron men, he stand with our Army and we won that fight,

we won many of district of pakistan and we were operating dozens of pakistani police stations , few rare of the rarest pics are here-

Image

most important thing favour to Indians that is at the middle of the war pakistan change their army commander, and Indian army take this phcological  advantge against them.

gen chaudhry is our Army chief but very few people knows that our Indian Pm is directly operating and commanding our Army, even when our general dnt want to start a another front against pak,  Pm said no!  we need to destroy pak, so we need more attacks from new fronts , and this is new thing in Indian History ,

in west front major general prasad (prashad participated at 2nd world war) successfully destroy pakistan army and they cross the international border first , after few days Pakistan Army surrendered , and we create a history.

at the same point USA appeal India to stop war, and after the enterfare of russia and usa we stop our army but pakistan motto is still bad, so we are ready to teach them good lesson ,

Image

Indian Army with american patton tank (pak)
we lost our 3o tops n tank and we destroyed 100 of pakistan tanks n tops and we got /win pakistan 87 tanks n tops ,

time magazine wrote about the situation, war in Asia,

Image

and finally 22 sep 1965 the war stopped and declared  Indian win , we lost our 3000 army in that war, we have proud of them and we always remember our brave army mens

jai Hind jai hind ki sena

Vishal shresth

note picture may subject of copyrights , all pics taken by google search

गाँधी बनाम मुर्ख वर्ग (Gandhi vs fool )

गाँधी बनाम मुर्ख
आजकल एक नया युवा वर्ग सामने आ रहा है (संख्या में कम है मगर परेशानी क सबब भी है)
ये दो-चार मूर्खो की किताब और नेट पे लिखी कुछ बकवास पढ़ कर खुद को महाज्ञानी समझ बैठते है।
ये गांधीजी को पसंद नहीं करते, कोई बात नहीं आपका अधिकार है आप जिसे चाहे न-पसंद करे , मगर इनके कुछ तर्क सुनकर हँसी आ जाती है और युवा वर्ग की सोच पे दया भी आ जाती है,
कुछ तर्के इस प्रकार है-
१-सुभाष चन्द्र बोश ने कांग्रेस गांधीजी के कारन छोरा – जवाब – सुभाष जी खुद गाँधी जी का आदर करते थे और नरम दल और गरम दल में से उन्होंने बाद में गरम दल चुना ।
२- भगत सिंह मेंरे आदर्श है और गाँधी भगत के खिलाफ थे,- जवाब- भगत जी ने खुद गांधीजी के प्रयासों के कायल थे और सभी उस समय के कांग्रेसी नेताओ के समर्थक थे, मगर वो पूर्णता अहिंसावादी नही थे और उन्होंने अपना अलग राह चुनी और अमर हो गये।

Image
३-सुभास जी को गाँधी जी ने कांग्रेस प्रमुख पद से हरवाया- जवाब – गांधीजी अहिंसा के समर्थक थे और कुछ समय बाद सुभास जी गांधीवादी धारा से कांग्रेस को अलग करना चाहते थे, मगर सुभास जी ने खुद को पाया की वो यहाँ रह-कर देश को आजाद नहीं कर पाएंगे और सभी जानते है वो गरम दल/धारा के पक्छधर थे,वे खुद ही कांग्रेस छोर चले न की उन्हें किसी ने बाहर का रास्ता दिखलाया ।

४- हिंदुस्तान से  मुसलमानों को उन्होंने नहीं जाने दिया, जवाब-कोई भी कांग्रेस नेता या और देश-भक्त नही चाहता था की देश के और टुकरे हो , अगर आपको थोरा सा भी ज्ञान हो तो पता होता की पाकिस्तान धर्म के नाम पर भारत में दंगे करवाके देश के कई टुकरे  करना चाहता था, क्या आप चाहते थे की भारत के और टुकरे हो, वैसे भी भारत कभी धरम के नाम पर बटवारे का समर्थक नहीं रहा। 

५-कांग्रेस गांधीजी के नाम पर वोट पाती  है – जवाब- इसमें गांधीजी की क्या गलती , अरे गांधीजी तो खुद कांग्रेस को भंग करना चाहती थे, आपको आपत्ति है तो कांग्रेस की आलोचना करे, गांधीजी की आलोचना क्यों?

६ – कुछ आपत्तिजनक जनक टिपण्णीया भी है जो सामाजिक स्तर पे मैं नहीं लिख सकता, संस्कार आदेश नहीं देते 

Image

अब मैं उन लोगो के नाम लिखना पसंद करूँगा जिन्होंने गाँधी के आदर्शो को अपनाया है या उनकी तारीफ में सर झुकाया है , 

अन्ना हजारे-गांधीजी युग-पुरष , उनके आदर्शो पे ही मैं चलता हु। ,
अब  सबसे पहले नाम मैं लूँगा पूर्व प्रधान मंत्री का
१-अटल बिहारी वाजपेयी, इन्होने तमाम जीवन गाँधी विचारधारा को अपनाये रखा ।
२- अलबर्ट आइन्स्टीन – इन्होने ओ यहाँ तक कहा की – आने वाले समय में युवा भरोषा नहीं करेंगे की गाँधी नाम का कोई हार-मांस का कोई मानव इस धरती पे थे।
३-बाबा राम देव – गाँधी हमारे आदर्श।
४-मदर टरेसा – कई बार गाधीजी के सन्देश को दुनिया भर में फैलाया ।
५ – रविद्रनाथ टगोर-इन्होने ही तो महात्मा नाम दिया था ।
६-हो-चिन्ह-मिन्ह- कोई भी क्रांति बिना गाँधी के विचार धारा को साथ लिए बिना नहीं हो सकता ।
७-नेल्सन मंडेला-गाँधी ने ही सत्य और अहिंसा का मार्ग दिखलाया और मैंने जित हासिल की ।
८- बराक ओबामा-गाँधी जीवन से मैंने काफी कुछ सिखा, उनके मार्ग पे चलके ही मैं यहाँ तक पंहुचा ।
९-दलाई लामा-गाँधी के लिए मन में बहुत श्रधा है, मुझे लगता है की वो एक ऐसे महँ इन्सान थे जिन्होंने बुध के सिधान्तो को अपनाया ।
१० – मर्थिन लूथर किंग जूनियर – इसा के सन्देश को गाँधी ने अपनाया, वो एक महा-मानव थे ।
११-नरेन्द्र मोदी – गाँधी जी हमारे गुजरात और देश के गौरव , गुजरात उनके आदर्शो पे ही चल रहा है ।
१२ – जी पि कोइराला-गाँधी विस्व के नेता ।
अन्य बहुत सारे व्यक्ति/नेता है जो गाँधी के अनुयायी है या उनका काफी सम्मान करते है।

आप गांधीजी को पसंद नही कर सकते मगर उनको न-पसंद भी नहीं कर सकते –

विशाल श्रेष्ठ

कांग्रेस को वोट दो और अपनी जिंदगी बदल दो (vote for congress)

अगर आपको स्लिम-ट्रिम होना है तो कांग्रेस को चुने                                                                              जी हा! मुझे पता है आप भरोसा नहीं करोगे,  आप कहेंगे की ये बंदा राजनीती कर रहा है, मगर ये सच नहीं,

जो दोस्त मुझे जानते है उन्हें पता था की मैं अपने बढ़ते हुए मोटापा से बहुत परेशां था , ऊपर से डाइ-बीटीज हो गयी, मैं बदसूरत लगने लगा था, आत्म -विश्वास ख़त्म हो चुकी थी,, मेरे यार दोस्त मुझपे हँसते  थे मुझे कोई लरकी घास नहीं डालती थी, मेरे सभी दोस्त के गर्ल-फ्रंड थे, पर मैं अकेले था, कोई भी मुझे अपनी पार्टी पे नहीं बुलाता था,दर्जी भी एक्स्ट्रा कपरे और एक्स्ट्रा पैसे मांगता था, मैं डिप्रेस हो गया था, मैं आत्म-हत्या करने की सोचने लगा था
Imagess
तभी मनो कमाल हो गया, मैंने टीवी में एक ऐड देखा- कांग्रेस को वोट दो और अपनी जिंदगी बदल दो
हमने कांग्रेस की सरकार  बनवा दी और अब चावल-दाल-टमाटर-प्याज़-दूध सब महंगे हो गए, सच मानिये खाने के लाले पर गए, कितने ही दिन भूखे रहे और नतीजा आपके सामने है – मैं बन गया स्लिम एंड ट्रिम , सच मानिये मुझे भरोसा नहीं हो रहा था की मैं भी दुबला पतला और आकर्षक लग सकता था ।
दिल से— धन्यवाद् कांग्रेस ! सच में तुमने मेरी जिंदगी बदल दी
 …………………….. विशाल श्रेष्ठ
note-pics taken by Google search

Bharat which is India ( भारत जो इंडिया है )

भारत विच इज इंडिया – भारत जो इंडिया है :
आजकल कुछ महान नेता भारत और इंडिया में भेद पैदा कर रहे है, अपने सुविधा के अनुसार नित नये परिभाषा गढ़ रहे है, महान श्री मोहन भगवत के अनुसार बलात्कार जैसी घटनाये भारत में नही इंडिया में होती है,जिस पर श्री किरण बेदी और दुसरे सामाजिक कार्यकर्ताओ ने उन्हें उचित जवाब दिया,श्रीमती किरण बेदी ने कहा है की भागवत जी को दिखायी नहीं देता, भारत (जो की गाव है) की बात है तो मैं बता दू  की गाव में या छोटे शहर में घटनाओ के खिलाफ केवल 20 % ही रिपोर्ट दर्ज होती है,बाकि या तो दर के मारे दर्ज नहीं होता या पुलिस कार्यवाही उसे होने नही देते,  जबकि बरे शहरो में मीडिया और पुलिस के साथ साथ समाजिक कार्यकर्ताओ के दवाब के कारण  घटना दर्ज होती है,
महान कैलाश विजयवर्गीय मंत्री मध्य-प्रदेश अपने शुभ वाणी से महिलाओ के लिए लक्ष्मण-रेखा के अंदर रहने को कहते है, और इनके खिलाफ महान कांग्रेसी नेता धरने-प्रदर्शन और बयानबाजी पे उतारू है, ये वही कांग्रेसी लोग है जिनके एक नेता बलात्कार करने के कोशिश में अभी कल ही पिटे गए, इधर विजयवर्गीय और बीजेपी के एक और नेता श्री बनवारी  लाल के अनुसार स्कर्ट और दुपट्टे का न होना बलात्कार का प्रमुख कारण  है,
मुझे इक और बयान याद आ रहा है -गीतिका तो कांडा की गलत नौकर थीं – शिवचरण शर्मा मंत्री हरियाणा,इन सभी लोगो के बारे में एक बात सामान है, ये सभी मानसिक दिवालियापन के शिकार है,
महान विजयवर्गीय कहते है-महिला जब लक्ष्मण-रेखा पार करेगी वहा रावण खरा है और फिर ऐसी घटनाये होंगी। महिलाओ के लिए मर्यादा की बात करते है। Image
मेरा साधारण सा सवाल है , 1-यदि रावण खरा है तो आप रावण को जानते भी होंगे, तो फिर उनका संहार करे! महिलाओ पे क्यों पाबन्दी लगा रहे है?

2- क्या सारे बलात्कार जीन्स या स्कर्ट के कारण हुए? दामिनी/निर्भया या दुसरे पिरीता  तो सलवार-समीज में थी और जब छोटे बच्चो पे  ये घिनौना अपराध  होता तो आपका ये तर्क क्यों कम नहीं आता?
मित्रो सभी पार्टियों को (कांग्रेस,बीजेपी,मार्क्सवादी, अन्य,……) मानसिकता बदलने की जरुरत है । भारत और इंडिया में कोई अंतर नहीं है, और महिलाओ और पुरुषों में भी कोई अंतर नहीं है।
महिलाये जीन्स पहने या स्कर्ट पहने या फिर भारतीय परिधान (साडी,सलवार) उनको हक है , अपने मुताबिक कपरे पेहेन्ने का।बस ये ख्याल रहे की कपरे का चयन ऐसा हो की आपको अपने परिवार और समाज में कही भी कभी भी खुद शर्म महसूस न हो। अगर आप सहज है तो आप सही है और आपको घबराने की जरुरत नहीं, भारत जो की इंडिया है आपके साथ है।
इरोन शर्मीला भी इन्ही विकृत मानसिकता, समाज और प्रसाशन के खिलाफ  20 सालो से संघर्षरत है , किरण बेदी,मेघ पाटेकर,अरुणा रॉय आदि समाजिक कार्यकर्ता भारत और इंडिया को एक करने में  सालो से जुटे है।
 थोरा आश्चर्यचकित हु की भारत में कई जगहों पे महिला नेता काफी ताकतवर है जैसे- सोनिया गाँधी और सुषमा स्वराज्य (केंद्र में ) , मायावती (भूतपूर्व सी एम् -यूपी),ममता बनर्जी (सी एम् -बंगाल) , जयललिता (सी एम् -तमिलनाडु ),शीला दिक्षित (सी एम्-देल्ही ) , उमा भारती (भूतपूर्व सी एम् -एमपी) बृंदा करात (नेता  सीपीएम ) आदी……! मगर कोई भी नेता अपने पार्टियों के नेताओ को कुछ नहीं कहता , जब महिलाओ की बात महिला ही नही उठाएगी तो वक़्त तो लगेगा देश और समाज को बदलने में ।
 भारत जो की इंडिया है और साथ में हिंदुस्तान भी आज देश के बेटियों के साथ है,और समाज में इनके अधिकार के लिए कदम से कदम मिला कर ।
भारत जो की इंडिया है इन सभी नेताओ की निंदा करता है, और सबको साथ ले चलने की ईक्छा रखता है और तब तक- जब तोमर डाक सुने कोई न आशी तबे एकला चलो रे!

………………………..विशाल श्रेष्ठ