और भी आतंकवादी और गद्दार है कसाब के सिवा!

कसाब को फांसी  मिली, अच्छि खबर है देश के लिये ।

अब देर क्यों हुइ ? गुप्त क्यों रखा ? दफनाया मुस्लिम तरीके  से या नहीं?

तारीख क्यों छुपाई ? जल्लाद कौन था?

अरे दोस्तों ये सब राज-नैतिक  बवाल है! और हमें राजनेतिक सोच छोर कर ,

सामाजिक मूल्यों का ख्याल रखना चाहिए , धयान रहे कसाब एक इन्सान नही था!

कसाब एक आतंकवादी था और इनका न इमान होता है न मजहब 

माँ भारती के लाल हम सब है , हम हिन्दू ,मुस्लिम ,सिख,बौद्ध  या ईसाई सब एक है \

और मुझे पूरा भरोसा है की सब इससे सहमत होंगे की कसाब  को फांसी मिलनी ही चाहिये ।

दोस्तों और भी आतंकवादी और गद्दार है कसाब के सिवा!

अब उनकी बारी आनी चाहिए। भ्रष्ट नेता,नौकरशाह और उधोगपति को भी उसके अंजाम तक पहुचना है।

अन्ना हजारे के साथ हम है आप भी सामाजिक आन्दोलनों का हिस्सा बने , राजनीती पे लगाम लगाना जरुरी है , Image

और  सामाजिक अन्दोलोनो से जुरना आजकी मांग है , समय की मांग है ।

उठो जागो और संघर्ष करो ! जय हिन्द 

 

Advertisements